यह IAS अधिकारी ऑफिस पर रोज जल्दी आकर करते हैं सफ़ाई।

कहते हैं कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता। आपको बस उसकी अहमियत को समझना है। उदाहरण के लिए, स्वच्छता के प्रश्न को लें। हम सभी स्वच्छ वातावरण में रहना पसंद करते हैं। हालांकि, जब हाथ में झाड़ू और पोछा लेकर सफाई की बात आती है, तो बहुत से लोग झिझकते हैं। एक बार अपने ही घर में सफाई तो करते हैं, लेकिन जब बात खुद ऑफिस की झाडू लगाने की आती है तो कोई भी इस काम को नहीं करना चाहेगा।

लेकिन आज हम आपको एक ऐसे आईएएस अधिकारी से मिलवाएंगे जो अपने बूथ की सफाई करने के लिए दस मिनट पहले ऑफिस पहुंच जाता है। उसे ढूंढो, ये हैं डॉ. अजयशंकर पांडेय। उत्तर प्रदेश के रहने वाले अजय हर दिन 10 मिनट पहले अपने कार्यालय जाते हैं ताकि वह अपने केबिन की सफाई कर सकें, जिसमें झाड़ू और पोछा भी शामिल है।

अजय बताते हैं कि उन्होंने 1993 में शुरुआत की थी। उस दौरान वे आगरा के एत्मादपुर में एसडीएम हुआ करते थे। फिर एक बार सफाई कर्मचारी हड़ताल पर चले गए। ऐसे में अगले दिन अजय ने खुद ही हाथ में झाडू लेकर सफाई शुरू कर दी. पहले तो उसने सभी को झाडू खुद साफ करने को कहा तो वे सब उस पर हंसने लगे।

ऐसे में उन्होंने सभी के लिए मिसाल बनते हुए खुद को साफ करना शुरू कर दिया। इतने बड़े अफसर को झाडू मिलते देख दूसरे लोग भी इस काम को फिर से करने लगे। अजय बताते हैं कि सफाई कोई गंदा काम नहीं है। हम अपने घरों में झाडू भी लगाते हैं। इस घटना के बाद उन्होंने सफाई अभियान शुरू किया, जिसके तहत सभी लोग सड़क पर उतर आए और शहर में जमा हुए कचरे को खुद ही साफ करने लगे. यह नजारा देखकर हड़ताली स्वास्थ्य कर्मी चुपचाप काम पर लौट आए।

हालांकि इसके बाद भी आईएएस अजय ने फैसला किया कि अब से वह अपना केबिन खुद साफ करेंगे। अजय का जहां भी तबादला होता है, उनके कार्यालय के बाहर एक बोर्ड लगा होता है, जिस पर लिखा होता है: ‘मैंने खुद इस कार्यालय की सफाई की है। गंदगी फैलाकर मेरा काम मत बढ़ाओ। वे किसी सफाईकर्मी को अपनी कैब में घुसने तक नहीं देते।

वह सारा काम खुद करते हैं इसलिए वह भी रोज दस मिनट जल्दी ऑफिस आ जाते हैं। अजय नगर निगम आयुक्त भी हैं। उनके हाथ में 6 हजार शहर के सफाईकर्मी हैं, लेकिन इसके बावजूद वह खुद झोपड़ी की सफाई करना पसंद करते हैं। अजय का कहना है कि महिलाएं अक्सर घर में भी यह काम करती हैं। पुरुष इसे छूते नहीं हैं। इस सोच को बदलना होगा। अजय का यह कार्य वाकई काबिले तारीफ है।

यह कई लोगों को प्रेरित करता है। वैसे उनमें एक सिख भी छिपा है कि कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता। बस आपको उस काम को पूरी लगन से करना है। वैसे आपका इस सफाई प्रेमी आईएएस अधिकारी के बारे में क्या कहना है, इसके बारे में हमें कमेंट में जरूर बताएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.