सलमान खान के जीजा ने जताई इच्छा, बोले- मेरा भी किसी से चक्कर चले, भले बीवी पिटाई कर दें

‘लवयात्री’ के बाद अभिनेता आयुष शर्मा एक बार फिर चर्चा में हैं अपनी जल्द रिलीज होने वाली फिल्म ‘अंतिम :द फाइनल ट्रुथ’ को लेकर। ‘लवयात्री’ में जहां उन्हें अपनी बीवी के भाई सलमान खान से भव्य लांच मिली, वहीं अंतिम में इस सुपर स्टार का साथ मिला है। आयुष इस खास मुलाकात में अपनी फिल्म, सलमान खान, बच्चों और लिंकअप्स की बातें करते हैं।

आपके लिए खुद का सलमान खान का बहनोई होना क्या मायने रखता है?
मैं उस वक्त 12 वीं कक्षा में था। मैं कैटरीना का बहुत बड़ा फैन था और मुझे पता चला कि दिल्ली के एक मॉल में सलमान भाई और कैटरीना कैफ ‘युवराज’ का प्रमोशन करने आने वाले हैं। काफी इंतजार के बाद उन लोगों को एंट्री हुई। सलमान भाई ने सफेद रंग की कमीज और बंडाना पहने हुए थे। मुझे लगा कि कितना गुड लुकिंग हीरो है। मैं उनको बस देखता रह गया। उनके पीछे कटरीना भी थी, मगर मेरी नजर सलमान भाई पर से हटी ही नहीं। उन्होंने मुझे देखकर पूछा, ‘कैसा है?’ इतना कहकर वे गाड़ी में बैठकर चले गए। उसके बाद किस्मत का खेल देखिए। मैं मुंबई जय हिंद कॉलेज में पढ़ने आया था और मैंने सुना था कि मुंबई में स्टार्स सड़कों पर घूमते हुए दिख जाते हैं।

हम लोग बांद्रा के गोल्ड जिम से गुजर रहे थे कि ऑटो वाला चिल्लाया, ‘वो देखो सलमान खान’ वे वाकई सड़क पर खड़े थे। हम लोगों को लगा कि उनके साथ फोटो खींचनी चाहिए। दोस्त बोला, ‘सुना वो बहुत गुस्से में रहते हैं। मगर मैं हिम्मत करके उनके पास गया और पूछा कि क्या हम आपके साथ एक फोटो ले सकते हैं? तो वो बोले, ‘हंड्रेड परसेंट ब्रदर।’ उस वक्त हमको विश्वास नहीं हुआ कि उन्होंने हमें ब्रदर कहा। उसके बाद जब अर्पिता मेरी दोस्त बनी और आगे चल कर हमने जब शादी का प्लान बनाया, तो हम उनसे मिलने गए। वो बोले, ‘हाइ! आई एम सलमान खान!’ तो कहने का मतलब यही है कि मैं उनसे घूम फिर कर बार-बार मिलता रहा।

अभी हाल ही में मैंने उन्हें बताया कि जब मैंने आपको गुड़गांव में पहली बार देखा था, तभी तय कर लिया था कि ऐक्टर बनना है। तब वो सिर पकड़ कर बोले, ‘अरे यार मेरी वजह से ही हुआ है।’ उनसे अपना लॉन्च लेना। उनके साथ फिल्म करना और उनके साथ पोस्टर पर आना, कभी-कभी ये मजाक लगता है। हमारा रिश्ता भले जीजा-साले का है, मगर मैं उन्हें पिता और बड़े भाई की तरह समझता हूं। ऐक्टर बनने से 6 साल पहले तक उन्होंने मुझे अपने साथ असिस्टेंट डायरेक्टर के रूप में रखा। ‘बजरंगी भाईजान’, ‘प्रेम रतन धन पायो’, ‘ट्यूब लाइट’ इन सभी फिल्मों में मैं उनके साथ था। उस दौरान मुझे उनसे जो कुछ सीखने मिला और जैसे उन्होंने मुझे ग्रूम किया, तो मैं खुद को खुशकिस्मत मानता हूं

सलमान अपने गुस्सैल स्वभाव के कारण जाने जाते हैं। कभी आपको उनके गुस्से का शिकार होना पड़ा?
बहुत बार।(हंसते हैं) कभी -कभी जब हम जिम या किसी तरह की ट्रेनिंग में सीरियसनेस नहीं दिखाते, तब एक कॉल आता है और उसके बाद वे हमारी पूरी तरह से क्लास लगा लेते हैं। ‘लवयात्री’ से पहले की बात होगी। मैं थोड़ा मोटा हो गया था। उन्होंने मुझे बुलाकर पूछा, ‘क्या हुआ बेटा? इतने क्यों फैलते जा रहे हो?’ मैंने कहा कि अभी तो कोई फिल्म नहीं है। उस दिन क्या डांट पड़ी थी? वे बोले कैमरे के सामने तब हीरो बनोगे, जब सड़क पर तुम्हे देखकर लोग कहें कि इसे हीरो बनना चाहिए।

उनका नाम आपको कहीं भार लगता है?
जी, कहीं न कहीं तो भार है। जब मैं कहता हूं कि मुझे सलमान खान ने ट्रेंड किया है, तो कहीं न कहीं मुझसे उम्मीदें बढ़ जाती हैं। मैं खुद को खुशकिस्मत मानता हूं कि देश का सबसे बड़ा सुपरस्टार मेरा गुरु है। मेरे साथ उनक नाम हर कहीं अटैच होता है कि आप उनके रिश्तेदार हैं, उन्होंने आपको लॉन्च किया है। हालांकि मैं इन चीजों को दिल पर नहीं लेता। मेरा फर्ज ये होगा कि मैं अपने गुरु को गर्व फील करवाऊं।

मैं बहुत ड”रा हुआ था। उनके प्रति मेरा प्यार और इ”ज्जत इतनी है कि मुझे उनके साथ फाइट सीन करना सही नहीं लगा। शुरू में मैं इतना कॉ’न्फिडें”स नहीं ला पा रहा था कि उन्हें मारूं। उनके सामने खड़े होना और उनका पंच खाकर सीन में ये कन्विंस करना कि मैं उन्हें पलट कर मार भी सकता हूं। मैंने शूटिंग के दौरान उनसे कहा कि भाई फाइट सीन्स मैं बॉडी डबल के साथ करता हूं, क्योंकि मैं कम्फर्टेबल नहीं हूं। तब उन्होंने कहा, ये सी”न्स तुमको मेरे साथ ही करने होंगे .कल को तुमको बड़े स्टार्स के साथ काम करने का मौका मिलेगा, तो तुम ये नहीं कह सकते कि मुझे ड”र लगता है।

आपकी फिल्म अंतिम जॉन अब्राहम की ‘सत्यमेव जयते 2’ के साथ आ रही है, तो कहीं कोई इनसिक्यॉरिटी है?
मैं खुद जॉन सर का बहुत बड़ा फैन हूं। उनके साथ अपनी इच्छा से क्लैश करने का कोई इरादा नहीं था। मगर आगे रिलीज होने वाली फिल्मों की लाइन लगी है, इसलिए हमें ये रिलीज करनी पड़ी है। मगर मैं सोचता हूं कि ‘सत्यमेव जयते 2’ भी खूब चले और हमारी फिल्म भी हिट रहे। लोग ऐसा मानते हैं कि एक जीतेगा, एक हारेगा मगर कई बार दोनों फिल्में पसंद की जाती हैं। जॉन सर बहुत स्वीट हैं, उन्होंने मेसेज भी किया था। उन्होंने सोशल मीडिया पर हमारी फिल्म को प्रमोट भी किया। मिलाप सर (सत्यमेव जयते 2 के निर्देशक मिलाप जावेरी) ने ट्रेलर लॉन्च के आधा घंटे बाद मेसेज करके ट्रेलर की तारीफ की कि मजा आ गया। बहुत अच्छा है।

आप खुद अभी काफी यंग हैं, मगर साथ ही दो बच्चों के पिता भाई हैं। ये आपके ऐक्टर होने को कितना कॉम्प्लिमेंट करता है?
मेरे बच्चे मुझे जमीन से जोड़े रखते हैं। हम लोग साथ में ग्रो कर रहे हैं। बेटी आयत के साथ मेरा थोड़ा अनुभव है, मगर आहिल के समय तो मुझे कुछ पता नहीं था कि बाप बनना क्या होता है? ‘लवयात्री’ के समय जब घर में हम, ‘चोगड़ा तारा’ गीत देख रहे थे, तो आहिल उस पर नाचने लगा था। मुझे लगता है अगर मेरे बच्चों को मेरा काम समझ आया, तो फिर ये पसंद किया जाएगा। अभी अंतिम का जो गाना है, ‘होने लगा’, वो मेरी बेटी को पसंद है, मगर मेरे बेटे को नहीं। कहने लगा, मुझे ये गाना अच्छा नहीं लगा। मम्मा क्यों नहीं है आपके साथ गाने में? बच्चों के रिऐक्शन कई बार बड़े मजेदार होते हैं। एक बार आहिल के कुछ दोस्त आए थे और मेरे कपड़े देख कर बोले कि तेरे पापा के शूज नॉर्मल नहीं हैं, तब आहिल ने जवाब दिया, वो ऐक्टर हैं न? इसलिए बूट पहनते हैं।

सलमान खान के जीजा आयुष शर्मा ने बच्चों के नाम को लेकर किया खुलासा, कहा- की इस दुनिया को काजल की कोठरी कहा जाता है कि दाग लगना ही है, यहां लिंकअप्स और अफवाहें आम होती हैं, तो इससे दूर रहने को लेकर कितने सजग रहते हैं?
मैं तो चाहता हूं कि मेरे लिंकअप का रूमर आएं, मेरे बारे में कोई रूमर लिखता ही नहीं। कोई तो लिखे, कम से कम कोई अहमियत तो मिलेगी घर पर। मैं सोचता हूं, मैंने क्या पाप किए, जो मेरा कोई रूमर नहीं आता। फिर भले अर्पिता खूब ठुकाई करे, मुझे लगता है बीवी की अटेंशन मिलनी चाहिए। मेरे लिंकअप्स की खबरें उड़ेंगी, तो घर में मामला स्पाइसी रहेगा। मैं और अर्पिता पहले दोस्त हैं फिर पति-पत्नी। मैं अक्सर उससे कहता हूं कि यार मेरा लिंकअप किससे होना चाहिए, तो वो कहती है, किसी ऐसे के साथ, जिस पर मुझे भी प्राउड महसूस हो। तो हम लोगों के बीच हंसी-मजाक चलता रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.