बेटे की एक ख्वाइश पूरी करने के लिए 90,000 की गवर्नमेंट जॉब छोड़ गाँव शिफ्ट हो गई माँ, पूरी बात जानकर होगा गर्व

आजकल कोई भी गांव में रहना पसंद नहीं करता है। वे सभी शहरों की ओर भागते हैं। आज की युवा पीढ़ी को खेती करना भी पसंद नहीं है। वहीं दूसरी तरफ आप सभी जानते हैं कि किसानों की क्या स्थिति है. बहुत से लोग आर्थिक तंगी के कारण आत्महत्या तक कर लेते हैं। ऐसे में इन सबके बीच एक कपल भी है, जो अपने बच्चे को शहरी जीवनशैली से दूर रखकर खेती करना सिखा रहा है ताकि वह बड़ा होकर एक अच्छा किसान बन सके.

अब इस कपल के ऐसा करने की वजह जानकर आपका सीना गर्व से भर जाएगा। दरअसल, राजेंद्र सिंह और उनकी पत्नी चंचल कौर का एक 11 साल का बेटा गुरबख्श सिंह है। राजेंद्र भारतीय रेलवे में काम करते हैं, जबकि उनकी पत्नी चंचल पहले सरकारी स्टाफ नर्स थीं। दोनों मूल रूप से राजस्थान के रहने वाले हैं, लेकिन हाल ही में दोनों ने इंदौर के पास डेढ़ हेक्टेयर जमीन पर कब्जा कर लिया है, जहां वे अपने 11 साल के बेटे को खेती के गुर सिखा रहे हैं.

इस सपने को पूरा करने के लिए चंचल ने 2016 में 90 लाख की सरकारी नौकरी तक छोड़ दी थी। उनके रिश्तेदारों ने कहा कि उनका फैसला गलत था, लेकिन चंचल के मन में स्पष्ट था। चंचल का कहना है कि भले ही हम बड़े शहर में रहकर अच्छा पैसा कमा रहे हैं, लेकिन हमारे पास न तो साफ हवा है और न ही शुद्ध पानी।

इधर शहरों के घरों में तो सूरज भी नहीं उगता। शहरी जीवन में इतना प्रदूषण है कि यह स्वास्थ्य को भी प्रभावित करता है। तो इतना पैसा क्या अच्छा है? यही कारण है कि हमने अपने बेटे को एक नया जीवन देने का फैसला किया और अशरवाद बूढ़ी (इंदौर) में खेती के लिए जमीन खरीदी।

दंपत्ति के इस निर्णय से आपके बच्चे को स्वस्थ और स्वच्छ जीवन की प्राप्ति होगी। इस जोड़े ने पद्मश्री के डॉ. जनक पलटा से जैविक खेती का प्रशिक्षण प्राप्त किया। इसके साथ ही उन्होंने सोलर कुकिंग, सोलर ड्रायिंग और जीरो वेस्ट लाइफस्टाइल की कला भी सीखी।

चंचल का कहना है कि हमारे बेटे को यह जीवनशैली पसंद है। उसने गांव में कई दोस्त भी बनाए हैं। वह उन्हें सोलर कुकिंग और ऑर्गेनिक खेती के गुण भी सिखाते रहते हैं। चंचल का कहना है कि बच्चे आज पैसे कमाने की दौड़ में इतने फंस गए हैं कि वे खुद पर समय नहीं बिता पाते हैं। इसलिए हमने अपने बेटे से कहा है कि वह कोई दौड़ नहीं लगाएगा। आगे या पीछे जाने की चिंता न करें, बस अपनी गति से चलें।

दंपति ने अपने घर में सौर ऊर्जा को भी महत्व दिया है। यहां सौर ऊर्जा से ही खाना बनता है। इसके अलावा, सब्जियां अपनी जैविक खेती से ही घर में आती हैं। हैरानी की बात यह है कि राजेंदा अक्सर काम के कारण बाहर रह जाती है, ऐसे में चंचल बच्चे की पढ़ाई, खेती और दूसरे काम अकेले ही संभालती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.